शुक्रवार, मई 29, 2009

शिकवा कोई दरिया की रवानी से नहीं है

शिकवा कोई दरिया की रवानी से नहीं है

रिश्ता ही मेरी प्यास का पानी से नहीं है।


कल यूँ था कि ये क़ैदे-ज़्मानी से थे बेज़ार

फ़ुर्सत जिन्हें अब सैरे-मकानी से नहीं है।


चाहा तो यकीं आए न सच्चाई पे इसकी

ख़ाइफ़ कोई गुल अहदे-खिज़ानी से नहीं है।


दोहराता नहीं मैं भी गए लोगों की बातें

इस दौर को निस्बत भी कहानी से नहीं है।


कहते हैं मेरे हक़ में सुख़नफ़ह्म बस इतना

शे'रों में जो ख़ूबी है मआनी से नहीं है।




शब्दार्थ :

क़ैदे-ज़मानी=समय की पाबन्दी; सैरे-मकानी=दुनिया की सैर;
ख़ाइफ़=डरा हुआ;अहदे-ख़िज़ानी=पतझड़ का मौसम; मआनी=अर्थ

2 टिप्पणियाँ:

abhi ने कहा…

Kabhi roke muskuraye, kabhi muskurake roye
Teri yaad jab bhi aayee, tujhe bhula bulake roye
Ek tera hi naam tha jise hazaar baartha likha
Jise khush hue the likhkar use mita mitake roye…

Mar jaoon main agar, to aansu mat bahana,
bas kafan ki jagah apna dupatta chada jana,
koi pooche ki rog kya tha,
to sir jhuka ke mohabbat bata jana.

Log to apna banake chodd dete hai..
Kitnee aasanise ghairon se rishta jod lete hai…
Hum ek phool tak na tod sake kabhi…
kuch log to berahmi se dil bhi tod dete hai..

Agar chand ko paana itna aasaan hota
har koi chandni ka deewana hota
taare toh roz hi tootte hai aasmaan pe
par koi unka sahaara nahin hota

Dil tootega toh fariyaad karoge tum bhi
hum na rahe toh hamein yaad karoge tum bhi
aaj kehte ho hamare paas vaqt nahin
par ek din mere liye vaqt barbaad karoge tum bhi

Tamaam raat vo zakhm de ke apne pairon ko
mere vajood ke raaz talaash karte thei
duaae karte thei aujde hue mazaaron pe
bade ajeeb shehar talaash karte thei
mujhe toh bataaya hai baadlon ne….
vo lautne ke raaste talaash karte thei…

abhi ने कहा…

kurbani nahi hai ye ma pyar
ma ke liye sir katana bhi kewal pholl ke barabar hai

jae mohbat hai ma ke liye